Breaking

Coal Scam Case: निलंबित IAS रानू साहू और दीपेश टांक को सुप्रीम कोर्ट से 7 अगस्त तक के लिए अंतरिम जमानत...

छत्तीसगढ़ 08 July 2024 (556)

सवाल बरकरार है: निलंबित आईएएस जेल से बाहर आएंगी या नहीं, इस पर संशय क्योंकि दर्ज हुआ है नया अपराध...

post

देश24 न्यूज: 

Raipur: छत्तीसगढ़ के बहुचर्चित कोल स्कैम में गिरफ्तार निलंबित आईएएस अधिकारी रानू साहू (#Suspended IAS officer Ranu Sahu) को सुप्रीम कोर्ट (#Supreme Court) से अंतरिम जमानत (Interim bail) मिल गई है। लेकिन कानून के जानकारों के मुताबिक, रानू जेल से बाहर आएंगी या नहीं, इस पर अभी भी संशय है।


दरअसल, कोल घोटाला केस में ACB-EOW ने हाल ही में आय से अधिक संपत्ति का नया अपराध दर्ज किया है। इससे पहले कोयला घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (#ED) ने उन्हें 2022 में गिरफ्तार किया था। बिलासपुर हाईकोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के बाद रानू साहू ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली थी। सुप्रीम कोर्ट से उन्हें राहत तो मिली, लेकिन उसके बाद भी वह जेल से बाहर आएंगी या नहीं इस पर अभी भी संशय है।  रानू साहू के अलावा दीपेश टांक को भी सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई है।

देश की शीर्ष अदालत ने पूर्व कलेक्टर व निलंबित आईएएस रानू साहू को अंतरिम जमानत दे दी, लेकिन वह जेल से बाहर नहीं आ पाएंगी, ऐसा कानूनी जानकार बता रहे हैं। कोयला घोटाले में छत्तीसगढ़ के एसीबी (#ACB) ने ही रानू साहू को आरोपी बनाया है। इसके अलावा एसीबी ने आय से अधिक संपत्ति का मुकदमा भी दर्ज कर किया है। लिहाजा, सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम जमानत के बाद भी रानू साहू का जेल से छूटना संभव नहीं होगा। निलंबित आईएएस रानू साहू पर वर्ष 2015 से 2022 तक करीब 4 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति स्वयं और अपने पारिवारिक सदस्यों के नाम पर खरीदने का आरोप है।

25 रुपये प्रति टन कोल लेवी वसूल किया:

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 21 जुलाई 2023 को निलंबित आईएएस रानू साहू के देवेंद्र नगर स्थित सरकारी आवास पर छापा मारा था। करीब चौबीस घंटे की जांच के बाद ईडी ने 22 जुलाई 2023 की सुबह उन्हें गिरफ्तार किया था। 21 जुलाई को रानू साहू के यहां दूसरी बार छापा पड़ा था। इससे पहले रायगढ़ कलेक्टर रहने के दौरान ईडी ने उनके रायगढ़ स्थित बंगले सहित अन्य स्थानों पर छापा मारा था। ईडी के मुताबिक कोयला कोरबारी सूर्यकांत तिवारी के साथ मिलकर #IAS रानू साहू, सौम्या चौरसिया और समीर विश्नोई ने कोयले पर 25 रुपये प्रति टन लेवी वसूल किया है।

काला धन खपाने वाले दीपेश को भी जमानत:

निलंबित #IAS रानू साहू के अलावा दीपेश टांक को भी जमानत मिल गई है। हालांकि, ये अंतरिम राहत है। दोनों की जमानत 7 अगस्त तक के लिए मंजूर की गई है। बताते चलें कि दीपेश टांक पर आईएएस को जमीन बेचने का आरोप है। छत्तीसगढ़ के अंदर और बाहर जमीनों की खरीद-फरोख्त और सौदे में ब्लैक मनी खपाने को लेकर दीपेश टांक को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार किया था। जानकारी के अनुसार दीपेश टांक ने पूर्व में गिरफ्तार आरोपियों को 51 एकड़ जमीन बेची थी। इसी गड़बड़ी के आरोप पर ईडी ने दीपेश को गिरफ्तार किया है।

सत्ता परिवर्तन के साथ ही बदला समीकरण:

प्रवर्तन निदेशालय ने कोयला कारोबारी सूर्यकांत तिवारी को बेंगलुरु (कर्नाटक) से गिरफ्तार किया था। तब ईडी ने बेंगलुरू के कादूगोड़ी वाइट फील्ड थाना में जुलाई 2022 में एक एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इस एफआईआर में प्रिवेंशन आफ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत आईपीसी की धारा 384 और 120 बी जोड़ा गया था। इसी एफआईआर के आधार पर छत्तीसगढ़ में बड़े पैमाने पर छापेमारी और गिरफ्तारी की गई थी। कर्नाटक में कांग्रेस के सत्ता में आते ही राज्य सरकार ने इन दोनों धाराओं को एफआईआर से हटा दिया। कोल स्कैम को लेकर भाजपा-कांग्रेस में खूब राजनीति भी हो रही है।

==


You might also like!


RAIPUR WEATHER